ईशा मशीह की कहानी, कैसे हुई प्रभु ईसा मसीह की मृत्यु ?

Posted by

क्रिसमस का त्यौहार पूरी दुनिया में लोग बहुत ही धूम धाम और आस्था से मनाते है लगभग सभी देशो में ये त्यौहार मनाया जाता है। क्रिसमस डे पर सभी लोग ईसा मसीह के जन्म दिन की ख़ुशी मनाते है। ईसा मसीह मृत्यु की पीड़ा के वक्त भी अपने सभी विरोधियो को आशीर्वाद दे रहे थे, चलिए जानते है ईसा मसीह की मृत्यु कैसे हुई? कैसे ईसा मसीह ने मृत्यु के समय में भी अपने विरोधियो को माफ़ किया।

प्रभु यीशु के जन्म की कहानी पढ़ने के लिए Click Here 

कैसे हुई प्रभु ईसा मसीह की मृत्यु ?

ईसा मसीह की लोकप्रियता भी बढ़ने लगी और सभी लोग उनको बहुत पसंद करने लगे। ईसा मसीह की लोकप्रियता जैसे जैसे बढ़ती गई कुछ लोगो को उनसे ईर्ष्या होने लगी।

jesus death story in hindi

सभी लोग ईसा मसीह की बाते मान ने लगेऔर उनको फॉलो करने लगे। कुछ लोग उनसे बहुत ही नफरत करते थे, कुछ लोग ये मानते थे की ईश्वर होते ही नहीं है पर लोगो को ईसा की बातो और ईसा में पूरा विश्वास था वो उनको मानते रहे। परंतु कुछ लोगो ने यरूशलम में शासकों को ईसा के खिलाफ भड़काया और कहा की ईसा सभी लोगो को धर्म और राज्य के खिलाफ एकजुट कर रहा है, जो राज्य के लिए ठीक नहीं है और ईसा के खिलाफ कार्यवाई होनी चाहिए। इसी लिए ईसा मसीह को मृत्यु दंड की सजा मिली और इतना ही नहीं उनको इतनी क्रूर सजा मिली की देखने वालो की रूह कांप उठे उनके हाथ व पैरों में कीलें ठोककर उन्हें लटका दिया गया। मेरी रूह कांप गई ये सोचते हुए , एक पल के लिए आप सोचो उनको कितना दर्द हुआ होगा।

jesus

परंतु इतने दर्द में भी प्रभु ने हम सबको बहुत बड़ी शिख दी है। प्रभु ईसा मसीह इतने दर्द में भी ईश्वर से प्राथना कर रहे थे ,

प्रभु ने कहा की  “प्रभु इन्हें शमा करना क्योंकि ये नही जानते की ये क्या कर रहे है.”

ईसा मसीह का ये अनमोल वचन ये दर्शाता है की उन्होंने अपने विरोधियो को माफ़ कर दिया था। दोस्तों और भी ऐसी कहानिया पढ़ने के लिए Mystoryzone.com यहाँ विजिट करते रहे, आप हमें अपने सुझाव जरूर देना, सुझाव के लिए निचे दिए गए बॉक्स में कमेन्ट लिखे। यह कहानी पढ़ने के लिए आपका बहुत बहुत शुक्रिया।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *